Tuesday , 20 February 2018

ट्रोजन हॉर्स वायरस क्या है और ये कैसे आपके कंप्यूटर में आ जाता है

दोस्तों अगर आप मोबाइल या कंप्यूटर यूज करते हैं तो आपने ट्रोजन हॉर्स वायरस के बारे में तो कभी ना कभी सुना ही होगा । आज में आपको बताउगा ट्रोजन हॉर्स वायरस क्या है और ये कैसे आपके कंप्यूटर में आ जाता है । ट्रोजन हॉर्स एक ऐसा वायरस जो चोरी छुपे इंटरनेट के जरिये हमारे कंप्यूटर या फिर मोबाइल में इनस्टॉल हो जाता हैं ।trojan horse virus

ट्रोजन हॉर्स वायरस क्या है और ये कैसे आपके कंप्यूटर में आ जाता है

“ट्रोजन हॉर्स” शब्द हिस्ट्री में हुए एक इंसिडेंट्स को लेकर लिया गया है। एक बार एक सेना को ट्रॉय शहर पर हमला करना था तो उन्होंने एक लकड़ी का घोड़ा बनाया और उसमे सारे सैनिक घुस गए और उस घोड़े को उस किले के अंदर पहुंचा दिया और जब वो घोड़ा किले के अंदर पहुंच गया तो घोड़े के अंदर से सारे सैनिक निकल गए और शहर पर हमला कर दिया। इस घटना को नाम दिया गया ट्रोजन हॉर्स । इसी तरह से ट्रोजन हॉर्स वायरस भी चोरी छुपे हमारे कंप्यूटर या मोबाइल में आ जाते हैं और हमे हमारे कंप्यूटर में तरह तरह के एड दिखने लगते हैं इससे हमारे कंप्यूटर या मोबाइल का डाटा लीक होने का भी खतरा रहता हैं । कई सॉफ्टवेयर तो हमारे CPU के पावर का यूज़ करके क्रिप्टोकोर्रेंसी की माइनिंग भी कर लेते हैं । ऐसे में हमे इन सॉफ्टवेयर से बचे रहना बहुत जरुरी हैं ।

दोस्तों आप जब इंटरनेट चलाते हैं तो कभी कभी गलती से किसी मलीसीयस वेबसाइट पर चले जाते हैं तो कई बार आपके सामने कई सारे एड आ जाता है या तरह – तरह के पॉपअप खुल जाते हैं जिसमें लिखा होता है कि “आपका कंप्यूटर या मोबाइल स्लो हैं आप यह सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कर लीजिए इससे आपके कंप्यूटर की स्पीड तेज हो जाएगी” या “आपके कंप्यूटर या मोबाइल में वाइरस हैं इस सॉफ्टवेयर तो इनस्टॉल करे सारे वायरस रिमूव हो जाएंगे” और वह एड तक नहीं हटता है जब तक की आप उस सॉफ्टवेयर डाउनलोड ना कर लें या फिर ब्राउज़र को बंद न कर दे । ऐसे में आप कभी कभी उस पर क्लिक कर देते जिससे वह सॉफ्टवेयर कंप्यूटर या मोबाइल में ऑटोमेटिकली इनस्टॉल हो जाता है और बाद में वह सॉफ्टवेयर अनइंस्टाल या फिर रिमूव भी नहीं होता हैं और आपके कंप्यूटर या मोबाइल में तरह तरह के एड आना सुरु हो जाते हैं । ट्रोजन हॉर्स वायरस हमारे कंप्यूटर में ईमेल के जरिये भी आ जाता हैं या फिर जब हम किसी सॉफ्टवेयर का क्रैक वर्जन इनस्टॉल करते हैं तब भी हमारे कंप्यूटर या मोबाइल में आ जाता हैं ।

ऐसे में अगर आप भी अपने कंप्यूटर या मोबाइल को सुरक्षित रखना तो आप कभी भी इन सॉफ्टवेयर को अपने कंप्यूटर या मोबाइल में न आने दे । अपने कंप्यूटर में एक अच्छे एंटीवायरस का इस्तेमाल करें ।  एक अच्छा सा एडब्लॉकर अपने ब्राउज़र में इस्तेमाल करें ।

Leave a Reply